Skip to main content

Lelo ye aarti ki thali ho jagdame ambe

jagdambe maa

Lelo Ye Aarti Ki Thali Ho Jagdambe Ambe-

लेलो ये आरती की थाली हो जगदम्बे अम्बे। इस आरती को बहुत कम लोग ही जानते हैं फिर भी उत्तर भारत में यह आरती कई जगह प्रचलित है। यहाँ इस आरती की पूरी लिरिक्स हिंदी और english में दी गयी है। 

लेलो ऐ आरती की थाली ओ जगदम्बे अम्बे,
कब से खड़ा हूँ तेरे द्वार,ओ जगदम्बे अम्बे ||
वर्षों से बैठा मैया आशा लगाये,
विनती हमारी अम्बे खाली न जाये |
ले लो ये आरती की थाली....

भूखे को भोजन मैया प्यासे को पानी,
निर्धन को माया दिलाती, ओ जगदम्बे अम्बे ||

अन्धन को आँखे मैया कोढ़िन को काया ,
बाँझन की गोद भराती जगदम्बे आंबे ||
ले लो ये आरती की थाली ...

काहे के मैया तुम्हरे मंदिर बने है,
काहे के लागे चारों खम्ब,ओ जगदम्बे अम्बे ||
सोने के मैया तुम्हरे मंदिर बने है,
रूप के लागे चरों खम्ब ओ जगदम्बे अम्बे ||
ले लो ये आरती की थाली....

को जो चढ़ावे मैया ध्वजा नारियल,
को जो चढ़ावे नौलखा हार ओ जगदम्बे अम्बे||
राजा चढ़ावे मैया ध्वजा नारियल,
रानी चढ़ावे नौलख हार,ओ जगदम्बे अम्बे ||
ले लो ये आरती की थाली....

काहे के लाने मैया ध्वजा नारियल,
काहे के लाने नौलखा हार ओ जगदमबे अम्बे||
संतत के लाने मैया ध्वजा नारियल,
सम्पत के लाने नौलखा हार,ओ जगदम्बे अम्बे ||
ले लो ये आरती की थाली....

अन्धियारे घर में मैया दियला जलाये दे
दुखियों के घर में मैया सुख तो बरसाए दे
जो जैसो आवे मैया ताहे तैसो दीजो,
विमुख कोऊ न जाए ,ओ जगदम्बे अम्बे ||
ले लो ये आरती की थाली....

सुमिर सुमिर मैया तेरो जस गाये लाऊँ,
तेरो जस गाये लाऊँ मैया मनाये लाऊँ,
शरण छोड़ कहाँ जाएँ ओ जगदम्बे अम्बे,
चरणों में शीश नवायें ओ जगदम्बे अम्बे ||

Related Post : भैरो (भैरव) बाबा की आरती

कब से खड़ा हूँ तेरे द्वार ओ जगदम्बे अम्बे ,
ले लो ये आरती की थाली हो जगदम्बे अम्बे ||

Le lo Ye Aarti Ki Thali o jagdambe ambe- 

This Arti has very rare presence in Most areas. Here, The Hindu Prayer is providing lyrics of this Aarti in english.

Lelo ye aarti ki thali ho jagdambe ambe,
kab se khada hun tere dwaar o jagdambe ambe
varshon se baitha maiya asha lagaye,
vinti hamari ambe khali na jaaye.
lelo ye aarti ki thali...


bhuke ko bhojan maiya pyase ko pani,
andhiyaare ghar me maiya diyala jalaye do
kab se khada hun tere dwar o jagdambe ambe,


nirdhan ko maya dilati ho jagdambe ambe
andhan ko aankhe maiya khodin ko kaya,
 banjhan ki god bharati , ho jagdambe ambe
lelo ye aarti ki thali...


kaahe ke maiya tumhre mandir bane hain,
kahe ke laage chaaro khamb ho jagdambe ambe
sone ke maiya tumhre mandir bane hai,
Roop ke laage charo khamb ho jgdambe ambe
le lo ye aarti ki thali...


ko jo chadave maiya dwaja nariyal,
ko jo chadave naulakh haar ho jagdambe ambe
Raja chadave maiya dhwaja nariyal,
Rani chadave naulakh haar ho jagdambe ambe
le lo ye aarti ki thali o..


kahe ke laane maiya dhwaja nariyal,
kahe ke laane maiya nolakh haar ho jagdambe ambe
santat ke laane maiya dhwaja nariyal,
Sampat ke laane nolakh haar ho jagdambe ambe
lelo ye aarti ki thali maa jagdambe ambe ...


dukhiyon ke ghar me maiya sukh to barsaye do
Jo jaiso aave maiya taahe taiso deejo,
vimukh koi na jaaye, o jagdambe ambe
lelo ye arti ki thali o...


sumar sumar maiya tero jas gaye laun,
tero jas gaa laun maiya tohe manaye laun,
Sharan chod kahan jaaye o jagdambe ambe
Charno me shees navaye, ho jagdambe ambe
lelo ye aarti ho jagdambe...

Related Post : Bhairo Baba Ki Aari

le lo ye aarti ki thali ho jagdambe ambe.

Related Posts-

Comments