Skip to main content

Bhaagwat Ji Ki Aarti

bhagwat Ji ki Arti
Shri krishna With arjun

Bhaagwat Ji Ki Aarti-

भागवत भगवान की है आरती
पापियों को पाप से है तारती

ये अमर ग्रन्थ यह मुख्य पन्थ
नव ज्योति जगाने वाला 
ये पंचम वेद निराला
हरिगान यही वरदान यही
पापियों को पाप से है तारती
जग की मंगल आरती| 

भागवत भगवान की है आरती
पापियों को पाप से है तारती

ये शांतिगीत पावन पुनीत 
पापो को मिटाने वाला, हरि दरस कराने वाला
है सुख करनी है दुःख हरनी 
मधुसूदन की आरती
पापियों को पाप से है तारती

भागवत भगवान की है आरती
पापियों को पाप से है तारती

 ये मधुर बोल जगफन्द खोल
सन्मार्ग दिखाने वाला, बिगड़ी को बनाने वाला
श्री राम यही घनश्याम यही 
पापियों को पाप से है तारती

भागवत भगवान की है आरती
पापियों को पाप से है तारती

Bhagwat Ji Ki Aarti-

bhaagwat bhagwan ki hai aarti
paapiyon ko paap se hai taarti

ye amar granth, ye mukhya panth
nav jyoti jagane wala, ye pancham ved nirala
hari gaan yahi vardan yahi
paapiyon ko paap se hai taarti

bhaagwat bhagwan ki hai aarti
paapiyon ko paap se hai taarti

ye shaanti geet, paavan punit
papo ko mitane wala, hari daras karane wala
hai sukh karni, hai dukh karni
madhusudan ki aarti
paapiyon ko paap se hai taarti

bhaagwat bhagwan ki hai aarti
paapiyon ko paap se hai taarti

yeh madhur bol jagphand khol,
sanmarg dikhane wala, bigdi ko banane wala
sri ram yahi, ghanshyam yahi
paapiyo ko paap se hai taarti.

bhaagwat bhagwan ki hai aarti
paapiyon ko paap se hai taarti



Comments